Monday, 4 April 2011

औरत की शादी या बर्बादी ?

भारत की नारी वो शक्ति जो पहचान अलग बनाती है 
वह सीता, दुर्गा, लक्ष्मी जैसे नामों से जानी जाती है 
फिर भी संकीर्ण बिचारों का साम्राज्य यहाँ पर फैला है  
जो फन फैलाकर डसता है वो तड़प-तड़प रह जाती है.  
भारतीय समाज में बेटियाँ जब पैदा होती हैं तो उनके दिमाग में ठूँस-ठूँस कर भरा जाता है कि वह पराया धन हैं. जब भी और जहाँ भी वह शादी होकर जायेंगी तो ससुराल ही उनका अपना घर होगा. वह बचपन से ही एक अच्छी बेटी और बहिन बनने की कोशिश करती हैं और ससुराल में निभाने के लिये भी सभ्यता और संस्कार सीखती है. और फिर शादी के बाद ससुराल में आकर तमाम रिश्तों की जिम्मेदारी निभाती है. पर दोनों ही जगह उनका महत्व होते हुये भी वह परायी क्यों रहती है ? और कई बार उनके सम्मान पर भी ज्वलंत सवाल उठते हैं और कभी-कभी आग का रूप भी धारण करते रहे हैं. किन्तु हर बार इन सवालों को बुझा दिया जाता है.  
वाकई में नारी जीवन सुलभ नहीं..ये सच है तो बहुत कड़वा. क्योंकि परेशानी में होने पर उनके मन की चीत्कार और पुकार कोई नहीं सुनता और न ही सहायता के लिये कोई आता है...शादी के बाद उन्हें पराया धन कहकर माँ-बाप विदा कर देते हैं कि पति का घर ही उनका असली घर है..किन्तु यह कितना सही हो पाता है...मन ही मन में उनकी चीत्कार प्रतिध्वनि करती रहती है. और कितनी शर्मनाक बात है कि हम आज औरत के अधिकार की बात करते हैं. पर कोई बताये तो सही कि कौन से अधिकार ? माता-पिता के घर में पराया धन समझी जाती है..क़ानून बनने के बाद भी तमाम बेटियाँ पैत्रक सम्पति पर भी जोर नहीं रखती क्योंकि उन्हें समझाया जाता है कि उनके भाई ही उनके माता-पिता की देखभाल करेंगे और उन्हें उनकी ससुराल से जरूरत आने पर विदा कराके लायेंगे और मायके में उनकी सुख-सुविधा का ध्यान रखेंगे..किन्तु ये सब ढकोसलेबाजी है. आजकल ना तो भाइयों का उतना लगाव रहा है और ना ही वह अपनी बहिनों की उनकी परेशानियों में रक्षा करते हैं. और ना ही उनके पास समय है. खुद ही बहिनें अपने आप देखने आ जाती हैं. कई जगह तो बहिनें कुछ भी लेने की वजाय अपना ही पैसा खर्च करती हैं और माँ-बाप को भी रखती हैं. 
इस समाज में यह एक काले धब्बे की तरह सच है जो छुपाया नहीं जा सकता कि कितनी ही जगह नारी पर पढ़ी-लिखी होने के वावजूद भी अत्याचार होता है. एक लड़की अपने माता-पिता का घरबार किसी दूसरे परिवार के आश्वासन पर छोड़ कर आती है. एक खूँटे से खोलकर उसे दूसरे खूँटे से इस समाज के बनाये हुये नियमों पर बकरी या गाय की तरह लाकर बाँध दिया जाता है..एक नये संसार में नये लोगों के बीच यह सोचकर और भरोसा करके कि उसका पति और ससुराल वाले उसकी हर बात में रक्षा करेंगे. किन्तु यह अधिकतर सच नहीं होता. उससे काम भरपूर लेने के वावजूद भी उसे '' पराई बेटी '' कहकर रखा जाता है. और मायके वाले कहते हैं कि : '' बेटी अब ये तुम्हारी किस्मत रही. '' और अगर पत्नी में सभी गुणों के होने पर भी पति की नीयत बदल जाये तो वह क्या करेगी ? औरत मजबूरी में कितना सहती है ससुराल वालों के लिये..अपने पति के लिये कितना कुछ झूठ बोल जाती है. कुछ पति व दामाद बहुत स्मार्ट होते हैं..औरों के सामने बहुत चतुराई से व्यवहार करके उन लोगों का दिल जीत लेते हैं और सच को झूठ साबित कर देते हैं...फिर भी शादी की गाड़ी खिंचती रहती है.  
नारी को एक ऐसा अभिशाप बना रखा है अपने समाज में कि उसे अपनी स्थिति का खुद ही नहीं पता कि उसका वजूद क्या है. शादी के पहले माँ-बाप के घर को वह अपना कहती है तो उसे बराबर अहसास कराया जाता है कि वह पराया धन है..फिर भी उसकी अकल में नहीं आता. घर-भर का ख्याल रखना, पढ़ना-लिखना, घर का काम-काज सीखना व अच्छे संस्कारों को सीखना ताकि उसे अपने जीवन में कोई समस्या ना हो और ससुराल में भी उसे सम्मान मिले. लेकिन फिर पति के यहाँ आने पर अगर सुनना पड़े कि '' मैंने तेरे बाप का कर्जा नहीं खाया..तू क्या अपने बाप के यहाँ से ये घर लाई है या वो लाई है '' आदि कहकर उसे परायेपन का अहसास दिलाया जाता है..तो उसे पति के यहाँ कैसे अपनापन लग सकता है ? कितने समझौते करते हुये भी शादी एक ऐसा कड़वा घूँट है कुछ औरतों के लिये कि वह चाहें कितनी भी कोशिश करें ससुराल में सबको खुश करने को तो भी नहीं कर पाती हैं...सब सहन करती हुई शादी के बंधन को एक कड़वे घूँट की तरह ना ही उसे घूँट पाती है और ना ही थूक पाती है...और आपसी रिश्तों की कटुता बढ़ती जाती है. लेकिन पति का घर छोड़ कर उन ज्यादतियों से बचकर औरत कहाँ जाये ? ये सब वह जान बूझ कर क्यों सहती है ? एक दिन जिस इंसान का हाथ पकड़ कर वह आती हैं और जो शादी के समय उसका संरक्षण करने का दावा करता है बाद में उसके ही हाथों से मार खाती है..जिस मुँह से वह वचन लेते हैं अग्नि को साक्षी मानकर साथ निभाने का उसी मुँह से वह बाद में पत्नी को किलस कर गालियाँ देकर उसे कोसते हैं और उसका अपमान करते हैं. कुछ पुरुष उन्हें घर वालों के संग मिलकर भी सताते हैं. एक समय वह था जब नारी को हर यज्ञ में बराबर का स्थान और घर में गृह-लक्ष्मी का दर्ज़ा दिया जाता था..और उससे हर बात में सलाह-मशवरा लेकर काम किया जाता था..और सम्मान दिया जाता था. और अब कई पुरुष अपने उन रटे-रटाये अग्नि के फेरे वाले वचनों को भूल कर पत्नी से चुरा-छिपा कर मनमानी करते हैं. और अगर कोई ताड़ ले उनके अत्याचारों को तो अपनी पत्नी के विरुद्ध कहानी गढ़ कर उस पर झूठे / मनगढंत दोषारोपण करके दूसरों की निगाह में उसे ही कसूरवार ठहरा देते हैं. और पत्नी अवाक सी रह जाती है. पुरुष अगर अकेले रहकर गुजर करते हैं तो उनपर कोई उँगली नहीं उठाता..लेकिन अगर एक औरत अकेली रहकर कहीं गुजर करना चाहे तो समाज उसका जीना मुश्किल कर देता है. किसी पुरुष से निर्दोषता से बात भी करे तो उसपर बदचलन होने का इलजाम भी लगते देर नहीं लगती. अगर सोचिये, तो शायद यही कारण हो सकता है कि इस डर से पढ़ी लिखी औरतें भी अपने पति के संग उनकी ज्यादती सहते हुये एक गुलाम की तरह रहती है. और उनके माँ-बाप सोचते हैं कि उनकी लाडो बेटी ससुराल में रानी बनकर राज कर रही होगी..हाँ कुछ करती हैं जो बहुत किस्मत वाली होती हैं. जैसा मैंने कहीं सुना है कि कहीं तो किसान की बेटी भी सबको मुट्ठी में रखती है और कहीं जज की बेटी को भी पति के हाथों मार खानी पड़ती है. लेकिन हर हाल में अधिकाँश की दशा शोचनीय ही है. अगर समाज के तानों को झेलने की जिल्लत ना सहनी पड़े तो पता नहीं कितनी औरतें बिना शादी किये हुये आत्मनिर्भर होकर जीना पसंद करेंगी. शादी का ऐसा बंधन जो खुशी की वजाय उसके जीवन और अस्तित्व को झकझोर डाले तो इससे तो अच्छा है कि वह किसी तरह अपनी बसर खुद ही कर ले. इस दिखावे के बंधन का क्या फायदा जहाँ सच्चा प्यार व सहानुभूति मिलने की जगह उसका जीना ही दूभर हो जाये.
एक और खास बात है इस समाज की वो ये कि हर कोई लड़की यानि होने वाली बहू को तो स्वस्थ्य लेना चाहता है किन्तु लड़का अगर किसी बीमारी को भुगत रहा है तो कोई बात नहीं. लेकिन उस लड़की का क्या हो जिसका शादी के तुरंत बाद एक्सीडेंट हो जाये या किसी गंभीर बीमारी का शिकार बन जाये ? शायद उसे वो लोग भुगत लेते होंगे किसी तरह.
जिस देश में पवित्र नदियाँ गंगा, जमुना, सरस्वती और दुर्गा, सरस्वती, लक्ष्मी, गौरी जैसी देवियों की पूजा होती है. और उनके नाम पर लोग अक्सर अपनी बेटियों के नाम भी रखते हैं. बाद में वही बेटियाँ व बहिनें किसी की पत्नी, बहू, और माँ बनती हैं. लेकिन शादी के पहले माता-पिता के यहाँ भार होती हैं फिर पति के यहाँ जाकर '' पराई बेटी '' के नाम से जानी जाती हैं और बात-बात में अपमान सहती हैं. नारी की स्थिति कितनी दयनीय बना कर रख दी है इस समाज ने..अगर अपने पति को छोड़कर वह अपना अलग अस्तित्व कायम करती हैं तो समाज उन्हें नहीं जीने देगा और वह सबकी निगाहों में निरंतर प्रश्न बनी रहेंगी या उनकी भूखी आँखों का शिकार बनेंगी. इसीलिए पति को छोड़कर बदनामी के भय को न सह पाने के डर से वह कोई भी ऐसा-वैसा कदम ना उठाकर सब कुछ चुपचाप सहती रहती है.

No comments:

Post a Comment